Sunday, June 12

मु ट्ठी भर अस्तित्व

ऐ आकाश तुम विस्तृत हो,
अथाह और अनंत हो,
मैंने स्वेच्छा से तुम्हे,शिदत्त से चाहा हैं !
और मैं जानती हूँ की
,तुमने भी मुझे ,शिदत्त से चाहा हैं 
मगर एक अद्भुत सत्य मेने समझा हैं   जो,
अगर इजाजत हो , तो मुझे   कहने दो,
तुम चाहे अनंत हो!
मगर तुम्हारा मु ट्ठी  भर अस्तित्व भी,
तुमसा ही हैं , इसलिए अगर मैं  चाहूं  तो,
क्यों न उस  मु ट्ठी  भर आकाश में ही,
संतुष्ट रह जाऊं ,और अगर चाहूं   तो 
पूरे के पूरे तुम भी कम हो ,
मेरे अंतर  की भूख मिटाने  को!

11 comments:

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह said...

Good,philosphical poem.Thanks for a good blog/my best wishes
dr.bhoopendra
mp

anu said...

pyar bhare dil ke shabd ....bahut khub

shaveta said...

thanx

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

mutthi mein akash hi liya hai... mutthi mutthi bhar akash hi paryapt hai.. kint mutthi mein pura akash rakh lena kala hai.. gagar roopi mutthi mein bhavon ka itna bada akash.. wah... main aapko bhi apne blog per visit ke liye amantrit kar raha hoon.. www.ashutoshmishrasagar.blogspot.com... my unveil emotions

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

mutthi mein akash hi liya hai... mutthi mutthi bhar akash hi paryapt hai.. kint mutthi mein pura akash rakh lena kala hai.. gagar roopi mutthi mein bhavon ka itna bada akash.. wah... main aapko bhi apne blog per visit ke liye amantrit kar raha hoon.. www.ashutoshmishrasagar.blogspot.com... my unveil emotions

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

achi rachna...

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

mere bhi blog me aaye..
www.pradip13m.blogspot.com

Sachin Malhotra said...

बहुत ही बढ़िया लिखा है !
मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - सम्पूर्ण प्रेम...(Complete Love)

Anil Avtaar said...

yatharth ko batlaati aapki yah rachna mujhe bahut acchhi lagi.. khushi hai ki aap likh rahi hain...


-anilavtaar.blogspot.om

mridula pradhan said...

bahut sunder.

Arvind Mishra said...

महादेवी वर्मा की याद हो आयी -
विस्तृत नभ का कोई कोना
मेरा न कभी अपना होना
उमड़ी कल थी मिट आज चली
मैं नीर भरी दुःख की बदली